हिंदी

1) What is the reason for more chances of getting a job after taking the Fire and Safety course ?

Answer: In view of the threat of natural disaster in the world, along with the Industrial Revolution, human safety, human safety in industries, protection of the environment and general protection, as well as to conserve natural resources, The topics like fire technology and industrial safety management, fire prevention, fire safety, health safety environment, disaster management are being promoted, hence A. It has much higher career prospects in the current situation and in the coming years. According to the rules of the Government of India, in any industry, whether it is of small or big scale, today it is mandatory to appoint a safety officer under the Factory Act 1948 section 40B. Due to which the chances of getting a job after doing the course of Fire and Safety increases.


2) Which students should take the course of Fire and Safety and what should be the qualification to take the course ?

Answer: Students seeking admission to this course designed for safety are required to have passed at least tenth or twelfth in any discipline, while students with graduate and engineering background are given employment priority in this field. Such students whose marks are 40% to 70% or more marks can easily make a career in this field. Most of the students who are already working in the field of Fire or Safety can also apply.


3) How safe is the future after taking the Fire and Safety course and what are the employment opportunities in it ?

Answer: With the rapid possible security measures being taken everywhere, people are also getting employment opportunities at the same speed. Opportunities arise both in India and abroad. Their requirement is in Power Plants, Power Industries, Manufacturing Industries, Construction Projects, Refineries, Dockyards, Nuclear Plants, Chemical Industries, General Industries, From the Indian point of view in India after taking the course of Fire Technology and Industrial Safety Management a students can become Fire Protection Engineer, Lead Fireman, Environment Safety Manager, Engineer Hygiene Manager or Supervisor, System Safety Engineer, Risk Management Consultant, Construction Safety Engineer or Site Supervisor, Safety Supervisor Transportation Safety Supervisor, Safety Warden, Safety checker likewise there are many opportunities. Apart from this, companies like Reliance Refinery, Lanco Power Limited, Jindal Steel & Power Limited, Schott Glass India Private Limited, appoint such course holders.


4) What can Salary get after doing a Fire and Safety course ?

Answer: A safety professional initially gets Rs 20-25 thousand per month and a construction safety engineer gets Rs 20 thousand. Approximately the same pay scale is available to all the occupants initially. In this, a safety supervisor also gets 1.50 to 2 lakh rupees per year initially.
In addition to this, if someone wants to go into the field of fire, then as a fireman or fire technician, he gets Rs. 1.20 to 1.75 lakhs per year in the beginning, 2.50 - 3 on the post of lead fireman or fire officer. Lakhs per year can get salary. Along with this, in almost all industries, fire safety workers are provided with the facility to live and eat. Apart from this, there are many other companies who also provide mobile phone allowance as well as petrol allowance or fare to go.


5) How to choose a good institute to do Fire and Safety course?

Answer: To undertake the Fire and Safety course, students should keep in mind certain things such as during the course the students are made aware of the work of industries through practical training in all disciplines, so that they can face every danger firmly. The aim of the course is to maintain and monitor all possible measures of security and safety, from checking equipment, protecting people, etc. Safety manager, safety officer and fire officer mainly have to consider many things and topics according to the industries. During this course, they are given complete information related to safety security, in which it is mandatory to have full facility of practical training in the institute. Where Fire Fighting, Work at Height, Confined Space Rescue and Entry, Full Body Harness System, Training of Fire Prevention as well as Information on Labor and Factory Act Code, Providing First Aid after Accident etc. should covered in priorities. Special attention is given to personal protective equipment in this work in industries, students should also keep in mind while selecting the institute that all the equipment related to the fire safety training institute's should be avail such as hydrant system, tripod, breathing apparatus In addition to more than 2000 equipment like hoses, branches, fire tenders for training, Rescue Van, ambulance should be. It also belongs to the management of all the necessary information by checking the fire equipment installed inside the building. To do this course, students should choose an institute that has complete facilities for at least 250 to 300 hours of practical training and also the classes for students like Personality Development, Spoken English, Computer classes etc. are organized with Specialized classes are provided to their students by experts from renowned industries and other institutions, which instills a different confidence in the students. In the era of digital education, the institute digitizes all the classrooms and provides them to the students.

Don’t hesitate also to contact if any person or relative who are working overseas are willing to help you to offer a job to you, there additionally providing a work visa. Don’t neglect these types of offers or chances if you have got anyone who will help you, because trials will also give you an experience in getting same knowledge of approaching. Also you can create a profile in job portal’s like Bayt, Expat Living, Naukri.com, Monster jobs, Career advice & hiring resources, LinkedIn, profile should look very strong and attractive to recruiter.


6) What is the difference between National and International courses in Fire and Safety courses ?

Answer: The National Course in the field of Fire and Safety is a course that is recognized by the Government of India at the national level such as NSDC (National Skill Development Corporation) which is the Ministry of Skill Development & Entrepreneurship (MSDE) and is in demand in all types of industries. In the international level, there are NEBOSH and IOSH courses, which are in demand today in India as well as in about 170 other countries. This course is given priority in all industries and only NEBOSH and IOSH Qualified people are appointed. There are differences in safety norms with many rules and laws in the courses of national and international courses. JiFSA is also giving students the benefit of the Fire and Safety Course at the international level by adding NEBOSH and IOSH to their national level course syllabus to reduce the difference of these parameters.


7) What are the courses in Fire and Safety, and how long are their duration ?

Answer: In Fire and Safety, subjects like Fire Technology and Industrial Safety Management, Fire Prevention, Fire Safety, Health Safety Environment, Disaster Management are taught. Fire and Safety consists of 1 year / 6 months / 3 months and 1 month short term certificate and advance level courses, in which practical training for 1 month of fire and safety courses is conducted.
If you want to do a fire and safety course in online also, then there is a 1 year / 6 month / 3 month and 1 month course in fire and safety, in which online portal for live classes and self-studies is also provided. This is where you can do your complete studies at any time, from any place. Along with this, practical training is also given to you for free in fire and safety courses from 6 days to 1 month. In which you will be given a practical training of 60 to 300 hours.


8) How to get admission in Fire and Safety course ?

Answer: Before taking admission in Fire and Safety course or to take admission, you should first go to Google search engine and get information about the best Fire and Safety Institute and must see their Google reviews or other feedback review, as well as going to YouTube Watch the videos. Also check the feedback of the students or take the feedback of the students, then you can see the website of the institute, in which all the information related to the institution and the study will be given, such as whether the Fire and Safety course is valid by the Government of India or not, Where is the institute located, when will the new batch start, etc.
Before taking admission in Fire and Safety course, you should complete your information in which curriculum of the course, availability of practical training or not, if it is for how many hours, what equipment does the institution have for training and their numbers, how many teachers are there to teach the syllabus, experience of teachers, which field is the teacher from and other types of information should be taken. You should also keep in mind whether the institution has facilities for sports as well as entertainment, recreation and its hostel and mess is available for the students and how many students can stay in the hostel. You should contact the Admission Department for complete information about the organization.



1) फायर एंड सेफ्टी कोर्स करने के बाद नौकरी प्राप्त करने की अधिक सम्भावनाओ के क्या कारण है ?

उत्तर : औद्योगिक क्रांति के साथ साथ विश्व में प्राकृतिक आपदा के खतरे को देखते हुए पूरे विश्व में मानव सुरक्षा, उद्योगो में मानव की सुरक्षा, रक्षा प्रणाली, पर्यावरण की सुरक्षा के साथ-साथ प्राकृतिक संसाधनों को संरक्षित रखने के लिए फायर टेक्नोलॉजी एंड इंडस्ट्रियल सेफ्टी मैनेजमेंट, फायर प्रिवेंशन, फायर सेफ्टी, हेल्थ सेफ्टी एनवायरनमेंट, डिजास्टर मैनेजमेंट जैसे विषयों को बढ़ावा दिया जा रहा है, इसलिए इसमें अभी और आने वाले समय में करियर की काफी अधिक संभावनाएं हैं। भारत सरकार के नियमनुसार किसी भी इंडस्ट्री चाहे वह छोटी या बड़ी स्तर की हो उनमें आज फैक्ट्री एक्ट १९४८ सेक्शन ४० बी के तहत सुरक्षा अधिकारी की नियुक्ति करना अनिवार्य है । जिसकी वजह से फायर एंड सेफ्टी के कोर्स करने के बाद नौकरी प्राप्त करने की सम्भावनाये बढ़ जाती है ।


2) किन विद्यार्थियों को फायर एंड सेफ्टी का कोर्स करना चाहिए और कोर्स करने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए ?

उत्तर : सुरक्षा के लिहाज से तैयार किए गए इस पाठय़क्रम में दाखिले के लिए इच्छुक छात्र को कम से कम दसवीं या बारहवीं किसी भी विषय में पास होना जरूरी है, जबकि ग्रेजुएट एवं इंजीनियरिंग बैकग्राउंड वाले छात्रों को इस क्षेत्र में रोजग़ार की प्राथमिकता दी जाती है। एसे विद्यार्थी जिनका प्राप्तांक ४०% से ७०% या अधिक प्रतिशत वाले विद्यार्थी इस क्षेत्र में आसानी से अपना करियर बना सकते है। अधिकांश ऐसे छात्र भी हैं, जो पहले से ही फायर या सेफ्टी के क्षेत्र में कार्यरत होते हैं, वे भी आवेदन कर सकते हैं।


3) फायर एंड सेफ्टी कोर्स करने के बाद भविष्य कितना सुरक्षित है और इनमें रोजगार के अवसर कहा है ?

उत्तर : जिस तेजी से हर जगह सुरक्षा के संभावित उपाय किए जा रहे हैं, उसी तेजी से लोगों को रोजगार के अवसर भी मिल रहे हैं। भारत तथा विदेश, दोनों जगह अवसर सामने आते हैं। इनकी आवश्य्कता पावर प्लांट्स, पावर इंडस्ट्रीज, मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्रीज, कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट्स, रिफायनरीज, डॉकयार्ड्स, नुक्लेयर प्लांट्स, केमिकल इंडस्ट्रीज, जनरल इंडस्ट्रीज, भारतीय दृष्टिकोण से फायर टेक्नोलॉजी एंड इंडस्ट्रियल सेफ्टी मैनेजमेंट का कोर्स करने के बाद भारत में फायर प्रोटेक्शन इंजीनियर, लीड फायरमेन, एनवायरमेंट सेफ्टी मैनेजर, इंजीनियर हाइजीन मैनेजर या सुपरवाइजर , सिस्टम सेफ्टी इंजीनियर, रिस्क मैनजमेंट कंसल्टेंट, कंस्ट्रक्शन सेफ्टी इंजीनियर या साइट सुपरवाइजर, सेफ्टी सुपरवाइजर, ट्रांसपोर्टेशन सेफ्टी सुपरवाइजर, सेफ्टी वार्डन, सेफ्टी चेकर के रूप में अवसर मिलते हैं। इसके अलावा रिलायंस रिफाइनरी, लैंको पावर लिमिटेड, जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड, Schott Glass India प्राइवेट लिमिटेड, जैसी कंपनियां कोर्स धारक को अपने यहां नियुक्त करती हैं।


4) फायर एंड सेफ्टी कोर्स करने के बाद सैलेरी क्या मिल सकती है ?

उत्तर : एक सेफ्टी प्रोफेशनल को शुरू में 20-25 हजार रुपए प्रतिमाह तथा कंस्ट्रक्शन सेफ्टी इंजीनियर को 20 हजार रुपए मिलते हैं। लगभग यही वेतनमान सभी पदों पर आसीन लोगों को शुरूवात में मिलती है। इसमें एक सेफ्टी सुपरवाइजर को भी शुरू में 1.50 से 2 लाख रुपए प्रति वर्ष मिलते है। इसके साथ साथ अगर कोई फायर के क्षेत्र में जाना चाहता है तो वह फायरमेन या फायर टेक्नीशियन के रूप में 1.20 से 1.65 लाख रुपए प्रति वर्ष शुरूवात में प्राप्त करते हुए लीड फायरमेंन या फायर अफसर के पोस्ट पर 2.50 - 3 लाख रुपए प्रति वर्ष वेतन प्राप्त कर सकते है। जिसके साथ साथ लगभग सभी उद्योगों में फायर सेफ्टी से सम्भंद्धित कर्मचारियों को रहने एवम खाने की सुवधा दी जाती है । इसके अलावा ऐसे कई अन्य कम्पनियाँ भी है जी की पेट्रोल भत्ता या आने जाने का किराया के साथ साथ मोबाइल फ़ोन का भी भत्ता देती है ।


5)फायर एंड सेफ्टी कोर्स करने के लिए एक अच्छे इंस्टिट्यूट का चयन कैसे करे ?

उत्तर : फायर एंड सेफ्टी कोर्स करने के लिए विद्यार्थियों को कुछ बातो का खास बातो का ध्यान रखना चाहिये जैसे पाठय़क्रम के दौरान छात्रों को सभी विषयो के प्रैक्टिकल ट्रेनिंग के द्वारा उद्योगों की कार्य प्रणाली से अवगत करवाया जाता है, जिससे वे हर खतरे का दृढ़तापूर्वक सामना कर सकें। पाठय़क्रम का उद्देश्य सुरक्षा के हर संभावित उपाय को बनाए रखने एवं उनकी निगरानी से लेकर उपकरणों की जांच, लोगों की रक्षा आदि है। सेफ्टी मैनेजर, सेफ्टी अफसर एवं फायर अफसर को मुख्य रूप से उद्योगों के अनुसार कई बातो एवं विषयो पर गौर करना होता है। जो उन्हें इस पाठय़क्रम के दौरान ही सुरक्षा से सम्बन्धित पूरी जानकारी दे दी जाती है, जिनमें इंस्टिट्यूट में प्रैक्टिकल ट्रेनिंग की पूर्ण सुविधा मुख्य रूप से होना अनिवार्य होता है जहाँ फायर फाइटिंग, वर्क एट हाइट, कन्फाइन्ड स्पेस रेसक्यूए एंड एंट्री, फुल बॉडी हार्नेस सिस्टम, फायर प्रिवेंशन की ट्रेनिंग और साथ ही लेबर एवं फैक्टरी एक्ट के कोड की जानकारी, दुर्घटना के पश्चात प्राथमिक मदद उपलब्ध कराना आदि शामिल है। उद्योगों में इस कार्य में महत्वपूर्ण रूप से पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट पर विशेष ध्यान दिया जाता है, विद्यार्थियों को इंस्टिट्यूट चयन करते समय यह भी ध्यान रखना चाहिए की इंस्टिट्यूट के फायर सेफ्टी ट्रेनिंग से सम्भंधित सभी उपकरण उपलब्ध होने चाहिए जैसे हाईड्रेन्ट सिस्टम, ट्रीपोड, ब्रीथिंग अपरेटस, होस, ब्रांचेज, जैसे लगभग २००० से ज़्यादा उपकरण के अलावा ट्रेनिंग हेतु फायर टेंडर, रेस्क्यू वेन, एम्बुलेंस भी होना चाहिए । बिल्डिंग के अंदर लगे फायर उपकरणों की जांच करके सभी जरूरी जानकारी को मैनेजमेंट तक पहुंचाना भी इसी के अंतर्गत आता है। इस कोर्स को करने के लिए विद्यार्थियों को एक ऐसे इंस्टिट्यूट का चयन करना चाहिए जिसमें कम से कम 250 से 300 घंटो की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग की पूर्ण सुविधा उपलब्ध हो और साथ ही विद्यार्थियों के लिए पर्सनालिटी डेवलपमेंट, स्पोकन इंग्लिश, कंप्यूटर क्लासेज आदि की क्लासेज अनिवार्य रूप से आयोजित कराई जाती हो । प्रख्यात उद्योगों तथा अन्य संस्थानों के विशेषज्ञों द्वारा अपने विद्यार्थियों को विशेष कक्षाएँ उपलब्ध कराती है जिससे विद्यार्थियों में एक अलग आत्मविश्वास जागृत होता है। डिजिटल एजुकेशन के दौर में इंस्टिट्यूट आपनी सभी कक्षाओं का डिजिटलीकरण कर विद्यार्थियों को प्रदान करता हो।


6) फायर एंड सेफ्टी कोर्स में राष्ट्रीय तथा अन्तराष्ट्रीय कोर्स में क्या अंतर है ?

उत्तर : फायर एंड सेफ्टी के क्षेत्र में राष्ट्रीय कोर्स वह कोर्स होता है जो की राष्ट्रीया स्तर पर भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त हो और हर प्रकार के उद्योगों में इसकी मांग हो जैसे की NSDC (नेशनल स्किल डेवलपमेंट कारपोरेशन) जो की Ministry of Skill Development & Entrepreneurship (MSDE) से सम्बन्धित है । अन्तराष्ट्रीय स्तर में NEBOSH और IOSH के कोर्स है जिसकी मांग आज भारत के साथ साथ लगभग १७० अन्य देशो मे भी है इस कोर्स को सभी उद्योगों में प्राथमिकता दी जाती है एवं NEBOSH और IOSH कुआलिफिएड लोगो को ही नियुक्त किया जाता है। राष्ट्रीय तथा अन्तराष्ट्रीय कोर्स के पाठ्यक्रमो में कई नियमो और कानून के साथ सुरक्षा के मापदंडों में अंतर होता है । जिफ्सा इसी मापदंडों के अंतर को कम करने के लिए अपने राष्ट्रीय स्तर कोर्स के पाठ्यक्रम् में NEBOSH और IOSH के भाग को भी जोड़ कर विद्यार्थियों को अन्तराष्ट्रीय स्तर पर फायर एंड सेफ्टी कोर्स का लाभ दे रही है।


7) फायर एंड सेफ्टी में कौन कौन से कोर्सेज होते है, और उनकी अवधि कितने महीनो की होती है ?

उत्तर : फायर और सेफ्टी में फायर टेक्नोलॉजी एंड इंडस्ट्रियल सेफ्टी मैनेजमेंट, फायर प्रिवेंशन, फायर सेफ्टी, हेल्थ सेफ्टी एनवायरनमेंट, डिजास्टर मैनेजमेंट जैसे विषयों को पढ़ाया जाता है । फायर और सेफ्टी में १ वर्ष / ६ माह / ३ माह और १ माह का शार्ट टर्म सर्टिफिकेट और एडवांस लेवल के कोर्स होते है, जिसमे ६ दिन से ले कर के १ माह की फायर और सेफ्टी कोर्स की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग होती है।
यदि, आप ऑनलाइन में भी फायर और सेफ्टी का कोर्स करना चाहते है, तो फायर और सेफ्टी में १ वर्ष / ६ माह / ३ माह और १ माह का भी कोर्स होता है, जिसमे लाइव क्लासेज और सेल्फ स्टडीज के लिए ऑनलाइन पोर्टल भी दिया जाता है जहा आप किसी भी जगह से, किसी भी समय अपनी पूरी पढाई कर सकते है। इसके साथ साथ आपको निशुल्क ६ दिन से ले कर के १ माह की फायर और सेफ्टी कोर्स की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग भी दी जाती है। जिसमें आपको ६० से लेकर ३०० घंटो का प्रैक्टिकल ट्रेनिंग कोर्स अनुसार दिया जाएगा ।


8) फायर एंड सेफ्टी कोर्स मे एडमिशन कैसे ले ?

उत्तर: फायर एंड सेफ्टी कोर्स मे एडमिशन लेने से पूर्व या फिर लेने के लिए आपको सबसे पहले गूगल सर्च इंजन में जाकर बेस्ट फायर एंड सेफ्टी इंस्टिट्यूट की जानकारी प्राप्त करनी चाहिये और उनका गूगल रिव्यु या फिर अन्य फीडफैक रिव्यु जरूर देखना चाहिए साथ ही youtube में जाकर उनका वीडियो भी देखे । विद्यार्थियों का भी फीडबैक देखे या विद्यार्थियों का फीडबैक ले, फिर आप इंस्टिट्यूट के वैबसाइट को देखें जिसमें वहाँ सस्था व पढाई से सम्बन्धित सभी जानकारी दी गयी होगी जैसे की फायर एंड सेफ्टी कोर्स भारत सरकार द्वारा मान्य है या नहीं, उनकी मान्यता कहा से है, इंस्टिट्यूट कहा स्थित है, नया बैच कब से शुरू होगा आदि ।
फायर एंड सेफ्टी कोर्स मे एडमिशन लेने से पूर्व आप अपनी जानकारी को पूर्ण कर ले जिसमें कोर्स का क्या पाठ्यक्रम है प्रैक्टिकल ट्रेनिंग है या नहीं, अगर है तोह कितने घंटो की है, ट्रेनिंग देने हेतु संस्था के पास क्या क्या उपकरण है और उनकी संख्या कितनी है, पाठ्यक्रम को पढ़ाने के लिए कितने शिक्षक है, शिक्षको का अनुभव, शिक्षक कौन कौन से कार्यक्षेत्र से है तथा अन्य प्रकार की जानकारी लेनी चाहिए । आपको यह भी ध्यान में रखना चाहिये की संस्था के पास पढाई के साथ साथ विद्यार्थियों के लिए खेल-कूद, मनोरंजन की व्यवस्था और अपना हॉस्टल व मेस की सुविधा विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध है या नहीं और हॉस्टल में कितने विद्यार्थी रह सकते है। आपको एड्मिशन डिपार्टमेंट से संपर्क करना चाहिए संस्था की पूरी जानकारी हेतु ।